वाक्यांश के लिए एक शब्द (One Word Substitution)

वाक्यांश के लिए एक शब्द  (One Word Substitution in Hindi Grammer)

अपने भावों को अभिव्यक्त करने के लिए और कथन के सौन्दर्य को बढ़ाने के लिए बात को विस्तृत रूप से न कहकर जब छोटे रूप में कह दिया जाता है तो वह पूरे वाक्यांश का भाव स्पष्ट कर देता है। इससे बात को विस्तार से कहने की आवश्यकता अनुभव नहीं होती है। इसे वाक्यांश के लिए एक शब्द प्रयुक्त करना कहते है।

कम से कम शब्दों में अधिक से अधिक भावों को व्यक्त करना उत्तम माना जाता है, क्योंकि ऐसी भाषा प्रभावशाली होती है। ऐसे शब्दों को अनेक शब्दों के स्थान पर एक शब्द भी कहा जाता है। भावों की गम्भीरता व भाषा की सुदृढ़ता के लिये इस प्रकार के शब्दों का प्रयोग उचित होता है। इन शब्दो के सहारे विस्तृत विचारों को सीमित शब्दों में व्यक्त किया जा सकता है। इसके बिना भाषा में बिखराव-सा नजर आता है। ऐसे सीमित शब्दों को अनेक शब्दों के स्थान पर एक शब्द भी कहा जाता है।

उदाहरण-

वाक्यांश एक शब्द
किसी आज्ञा या कानून को न मानना अवज्ञा
जिसके समान कोई न हो अद्वितीय
जो बदला न जा सके अपरिवर्त्य
जो विश्वास करने लायक न हो अविश्वसनीय
परम्परा से सुनी हुई बात या उक्ति अनुश्रुति
जिसकी उपमा न दी जा सके अनुपमेय
जिसका विवाह न हुआ हो अविवाहित
जिसकी नाप-तौल न हो सके अपरिमेय
जिसकी आशा न की गयी हो अप्रत्याशित
जो व्यवहार में न लाया गया हो अव्यवहृत
जो प्रशंसा के योग्य न हो अप्रशस्त
जो प्रमाण से सिद्ध न हो सके अप्रमेय
जो पान करने योग्य न हो अपेय
जो सर्वसाधारण के सामने न रखा गया हो अप्रकाशित
जो प्रतीत न हो सके अप्रतीयमान
जिसका आदि न हो अनादि
जिसके आने की तिथि निश्चित न हो अतिथि
जो कहा न जा सके अकथनीय
जिसकी कल्पना न की जा सके अकल्पनीय
जिसकी तुलना न की जा सके अतुलनीय
जो बीत चुका हो अतीत
आवश्यकता से अधिक वर्षा अतिवृष्टि
जिसका भाग्य अच्छा न हो अभागा/भाग्यहीन
जो कुछ न करता हो अकर्मण्य
जिसकी आशा न की गयी हो अप्रत्याशित
जिसे भुलाया न जा सके अविस्मरणीय
जिसका कोई दूसरा उपाय न हो अन्योपाय
जो अनुकरण करने योग्य हो अनुकरणीय
वह कार्य जो बिना वेतन के किया जाये अवैतनिक
वह वस्तु जिसके आर-पार न देखा जा सके अपारदरी
एक से अधिक माताओं से पैदा हुआ भाई अन्योदर
पृथ्वी और सूर्यादि लोकों के मध्य का स्थान अंतरिक्ष
जिस तक पहुँचा न जा सके अगम्य
जो दवाया न जा सके अदम्य
सीमा का अनुचित उल्लंघन अतिक्रमण
जो अपनी जगह से न हिले अडिग
कभी न टूटने वाला अटूट
जो अपनी बात से न टले अटल
जिसके कुल का पता न हो अज्ञातकुल
जो कुछ नहीं जानता हो अज्ञ
जिसे जीता न जा सके अजेय
जो कभी बूढ़ा न हो अजर
जो छुआ न गया हो अछूता
जो छूने योग्य न हो अछूत
जिसकी चिन्ता नहीं हो सकती अचिन्त्य
जो खाली न जाए अचूक
जिसका जन्म पीछे हुआ हो अनुज
जिसका जन्म पहले हुआ हो अग्रज
पर्वत के ऊपर की समतल भूमि अधित्यका
वह (रोग) जिसका ठीक होना कठिन हो असाध्य
जो दूर की बात सोच न सके अनाग्रसोची
जिस पर अभियोग लगाया गया हो अभियुक्त
किसी कथन को बढ़ा-चढ़ाकर कहना अतिशयोक्ति
जो ढका न हो अनावृत
साधारण या व्यापक नियम के विरुद्ध चीजें अपवाद
व्यर्थ ही अधिक खर्च करने वाला अपव्ययी
जो सबके अन्तःकरण की बात जानने वाला हो अन्तर्यामी
जिसके पास कुछ न हो अकिंचन
जो रूप में समान हो अनुरूप
प्रत्येक पदार्थ को क्षणिक और नश्वर मानने वाला अनित्यवादी
जिसका अंत न हो अनन्त
जो प्रमाण देने के योग्य न हो अप्रामाण्य
जो जाना न जा सके अज्ञेय
सम्पूर्ण लक्ष्य पर लक्षण का न घटित होना अव्याप्ति
सबसे पहले गिना जाने वाला अग्रगण्य
जो भेदा या छेदा न जा सके, जो टूट न सके अभेद्य
जो सम न हो असम
जो नीचे लिखा गया है अधोलिखित
जो भविष्य के प्रति आशान्वित हो आशावादी
जो अपने पैरों पर खड़ा हो आत्मनिर्भर
जो स्वयं पर बीती हो आपबीती
अर्थ से सम्बन्ध रखने वाला आर्थिक
बालक से वृद्ध तक आबालवृद्ध
प्रारम्भ से लेकर अन्त तक आद्योपान्त
देवता अथवा भूतादि द्वारा होने वाला दुःख आधिदैविक
जीवों पर शरीरधारियों के द्वारा प्राप्त दुःख आधिभौतिक
जो कार्य किसी दूसरे प्रधान कार्य के करते समय थोड़े प्रयास से ही हो जाये आनुषंगिक
जो धर्म और ईश्वर में विश्वास रखता हो आस्तिक
आलोचना के योग्य आलोचनीय
एक देश द्वारा दूसरे देशों से वस्तुओं का मँगाया जाना आयात
जो इधर-उधर से घूमता-फिरता आ जाये आगन्तुक
जिस पर आक्रमण हो आक्रान्त
जिसका अहंकार चूर्ण हो गया हो आत्र्तगर्व
वह नायिका जिसका पति परदेश से लौटा हो आगतपतिका
जिसकी समस्त कामनायें पूरी हो गयी हों आप्तकाम
तुरन्त कविता करने वाला कवि आशुकवि
दूसरों के सुख के लिये स्वयं का त्याग आत्मोत्सर्ग
आदर्शमूलक भावना को प्रश्रय देने वाला मत आदर्शवाद
 जो अपने आचरण से पवित्र हो आचारपूत
किसी मत का सर्वप्रथम प्रवर्तन करने वाला आदिप्रवर्तक
पैर से सिर तक आपादमस्तक
किसी के गुण-दोष की विवेचना करने वाला आलोचक
भगवान के सहारे अनिश्चित आय की प्राप्ति आकाशवृत्ति
जिसकी आकांक्षा हो इष्ट
इतिहास को जानने वाला इतिहासज्ञ
इन्द्रियों को वश में करने वाला इंद्रियजित
इस लोक से सम्बन्ध रखने वाला इहलौकिक
जो दूसरों की उन्नति देख कर जलता हो ईर्ष्यालु
जिस (वस्तु) की आकांक्षा हो ईप्सित
पूरब और उत्तर के बीच की दिशा ईशानकोण
गर्व पूर्ण व्यवहार करना इठलाना
ऊपर कहा गया उपर्युक्त
सबसे ऊँचा उच्चतम
जो पास हो गया हो उतीर्ण
उपकार करने वाला उपकारी
सूर्य जिस स्थान से निकलता है उदयाचल
जिसका उपचार किया गया हो उपकृत
सूर्योदय से पहले का समय उषाकाल
पर्वत के पास की भूमि उपत्यका
जिसके दाँत न जन्मे हों उदन्त
जो भूमि उपजाऊ हो उर्वरा
किसी के बाद उसकी सम्पत्ति पाने वाला उत्तराधिकारी
जिसने ऋण चुका दिया हो उऋण
जल-थल दोनों जगह रहने वाला जीव जो धरती उभयचर
 फोड़कर जन्मता हो उद्भिज
जो उल्लेख करने योग्य हो उल्लेखनीय
ऊपर की ओर जाने वाला ऊर्ध्वगामी
ऊँचे स्वर से उच्चारण किया हुआ ऊर्ध्वोच्चारित
जिस भूमि में कुछ उत्पन्न न हो ऊसर
जो अपने वीर्य को न गिरने दे ऊर्ध्वरेता
जिसके एक ही आँख हो एकाक्ष
जिसका चित्त स्थिर हो एकाग्रचित
जो दिन में एक बार भोजन करता हो एकभुक्त
 जिसका सम्बन्ध किसी एक स्थान (देश) से हो एकदेशीय
जहाँ कोई दूसरा न हो एकान्त
किसी वस्तु के क्रय-विक्रय का एकछत्र अधिकार एकाधिकार
जो अपनी इच्छा पर निर्भर उपनिवेश सम्बन्धी ऐच्छिक
जो जन्म से ही अंधा है जन्माध
बेटी का पति जामाता
जिसकी इन्द्रियाँ वश में हो जितेन्द्रिय
जल में रहने वाले जन्तु जलचर
त्याग करने योग्य त्याज्य
तत्व को जानने वाला तत्वज्ञ
तर्क के आधार पर जो ठीक हो तर्कसंगत
एक व्यक्ति द्वारा चलाई जाने वाली शासन तानाशाही
प्रणाली तरने, तैर या पार होने की इच्छा तितीर्षा
तरने, तैर या पार होने की इच्छा रखने वाला तितीर्षु
थाने का प्रधान अधिकारी थानेदार
पुलिस की चौकी थाना
चौपायों के बाँधने का स्थान थान
जमी हुई गादी चीज की तह थक्का
जिसको जीतना कठिन हो दुर्जेय
जो कठिनता से जाना जाये दुर्शय
जिसका होना या करना कठिन हो दुष्कर
जिसका रोकना या निवारण करना कठिन हो दुर्निवार्य
दो बार जन्म लेने वाला द्विज
वह व्यक्ति जो दूर की बातों को सोच लेता है दूरदर्शी
वह व्यक्ति जो अपने ऋणों को चुकता करने में असमर्थ हो दिवालिया
जिसने किसी विषय में मन लगा लिया हो दत्तचित
जो दर्शनशास्त्र का ज्ञाता हो दार्शनिक
कपड़ा सीने का व्यवसाय करने वाला दर्जी
दस वर्षों का समय दशक
जिसके दस मुख हो दशानन
जो द्वार की रक्षा करता है द्वारपाल
जिसने गुरु से दीक्षा ली हो दीक्षित
जिसमे जाना कठिन हो दुर्गम
जो दिया जा सके देय
दण्ड दिये जाने योग्य दण्डनीय
अपने देश से प्रेम करने वाला देशभक्त
आँख की बीमारी दो वेदों को जानने वाला दृष्टिदोष
दो वेदों को जानने वाला द्विवेदी
जिसका दमन करना बहुत कठिन हो दुर्दम्य
जिसे खाना मुश्किल हो दुर्भक्य
जो बहुत कठिनाई से प्राप्त हो दुर्लभ
अनुचित बात के लिए आग्रह दुराग्रह
दिन में कम दिखायी देता हो दिनौधी
तीव्र गति से जाने वाला दुतगामी
अपने देश के साथ विश्वासघात करने वाला देशद्रोही
जिसे कठिनाई से प्राप्त किया जा सके दुष्प्राप्य
जो काफी दिक्कत से काबू में आ सके दुरभिग्रह
जिसे प्रसन्न करना कठिन हो दुराराध्य
जिसे दबाया या सताया गया हो दलित
जिसका ठीक तौर से आकलन सम्भव न हो दुष्परिमेय
जिसको सिद्ध करना कठिन हो दुःसाध्य
जो अस्पष्ट दिखायी दे धूमिल
धर्म में आस्था रखने वाला धार्मिक
धारण करने वाला धारक
धारण करने वाली धारयित्री
ध्यान या विचार करने वाला ध्याता
जहाँ किसी बात का डर न हो निरापद
जिसके मन में पाप न हो निष्पाप
जो शंका करने योग्य न हो निःशंक
जिसके विषय में विवाद न हो निर्विवाद
नगर में रहने वाला नागरिक
रात को चलने-फिरने वाला निशाचर
जो नष्ट होने वाला हो नश्वर
जहाँ आबादी न हो निर्जन
रात्रि का दूसरा प्रहार निशीथ
जो नीचे लिखा गया हो निम्नलिखित
जिसका आश्रय न हो निराश्रय
जिसकी आशा न की गयी हो निराशा
जिसमें कोई दोष न हो निर्दोष
जो एक अक्षर भी न जानता हो निरक्षर
जिसका कोई आकार न हो निराकार
नया आया हुआ नवागन्तुक
अभी-अभी जन्म लेने वाला नवजात
जिसके पास शक्ति न हो निर्बल
समुद्र की आग बड़वानल
रात्रि के चार बजे का समय ब्रह्मुरूरत
बाहर आया या निकला हुआ बहिर्गत
बहुत अधिक जानकारी रखने वाला बहुज्ञ
जिसने बहुत कुछ देखा हो बहुदर्शा
जिसे समाज, देश अथवा जाति से निकाल दिया गया हो बहिष्कृत
बहुत से देवताओं की उपासना किये जाने का सिद्धान्त बहुदेववाद
मृत्यु का इच्छुक मुमूर्षु
जिसने मृत्यु पर विजय पायी हो मृत्युंजय
जो कम जानता हो मन्दबुद्धि
जो मृत्यु के समीप हो मरणासन्न
सूक्ष्म भोजन करने वाला मिताहारी
कम या मर्यादित खर्च करने वाला मितव्ययी
मोक्ष की इच्छा रखने वाला मुमुक्षु
मन, वचन, कर्म से मनसा-वाचा-कर्मणा
दोपहर का समय मध्याह्न
झूठ बोलने वाला मिथ्यावादी
मरने की इच्छा या कामना मुमूर्षा
किसी विषय की मीमांसा करने वाला मीमांसक
मछली के समान जिसकी आँखें हों मीनाक्षी
हिरण की आँख के समान आँखों वाली मृगनयनी
मांस भक्षण करने वाला माँसाहारी
कम बोलने वाला मितभाषी
वह जो भूतकाल की तिथि से लागू हुआ हो भूतलक्षी
भय से घबराया हुआ भयाकुल
वर्तमान से पूर्व का भूतपूर्व
टूटे-फूटे पदार्थ के बचे टुकड़े भग्नावशेष
भूगोल सम्बन्धी भौगोलिक
आगे होने वाला भावी
भारत और यूरोप से सम्बन्धित भारोपीय
जो भारत में रहता हो भारतवासी
दीवार पर बने चित्र भित्तिचित्र
गर्भस्थ शिशु की हत्या भ्रूणहत्या

 

Important Topics Of Hindi Grammar (Links)
हिन्दी भाषा का विकास वर्ण विचार संधि
शब्द विचार संज्ञा सर्वनाम , विशेषण
क्रिया लिंग वचन
कारक काल पर्यायवाची शब्द
विलोम शब्द श्रुतिसम भिन्नार्थक शब्द एकार्थी शब्द
अनेकार्थी शब्द उपसर्ग एंव प्रत्यय समास
वाक्य वाक्यांश के लिए एक शब्द वाच्य
मुहावरे एंव लकोक्तियाँ अलंकार रस
छंद अव्यय
Enjoy ? Share with your friends
Share on facebook
Share on Facebook
Share on whatsapp
Share on WhatsApp

Disclaimer

Due care has been taken to ensure that the information provided in this content is correct. However, Preprise bear no responsibility for any damage resulting from any inadvertent omission or inaccuracy in the content. Help us to improve Preprise.com: Contact us.

Leave a Comment

10 × 1 =